Follow by Email

शनिवार, 2 जनवरी 2010

nav-varsh ki kamana--

आशा है नव-वर्ष यह दो हजार और दस ,
कहे मुई महंगाई से बस बहन जी बस |
बस बहन जी बस,त्रस्त है जनता सारी,
नीचे उतरो ये छोटी सी अरज हमारी|
करें 'शलभ' कविराय बिनती इतनी सी बस,
भ्रष्टाचार को निगल जाये ये दो हजार दस|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें